तीन तलाक देने वाले पुरूषों को हो 20 साल की सजाः डाॅ0 समीना

नई दिल्ली। नई दिल्ली में डाॅ0 समीना की अध्यक्षता में एक सभा का आयोजन हुआ। जिसमें तीन तलाक के खिलाफ काम कर रही मुस्लिम महिलाओं ने अलग-अलग जगह से आकर भाग लिया और तीन तलाक से पीड़ित महिलाओं को कैसे इंसाफ मिले और सरकार को उसके लिए क्या-क्या ठोस कदम उठाने चाहिये इस विषय में चर्चा हुई। माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी हम महिलाओं की मांग है कि जो भी पुरूष अपनी-अपनी पत्नियों को तीन तलाक दे चुके है और वो दर-दर की ठोकरें खा रही हैं कम से कम ऐसे पुरूषों को 20 साल की सजा होनी चाहिए।

और उनको नामर्द बना देना चाहिए ताकि आने वाले समय में कोई पुरूष इस तरह से मुस्लिम महिलाओं पे जुल्म न करें और ससुराल वालों की प्रोपर्टी से कम से कम आधा हिस्सा मिलना चाहिए और मुस्लिम पर्सनल लाॅ बोर्ड ने आज तक महिलाओं के हक में कोई ठोस कदम नहीं उठाये बल्कि उल्टे हम मुस्लिम महिलाओं पर शरीयत का हवाला देकर अब तक अपनी रोटियां सेंकी हैं। इस पूरे हिन्दुस्तान की तलाकशुदा औरतों को मुस्लिम पर्सनल लाॅ बोर्ड कम से कम एक-एक करोड़ का मुआवजा दें। अगर मुस्लिम पर्सनल लाॅ बोर्ड ऐसा नहीं करता तो उस पर बैन लगाना चाहिए। और सरकार से हमारी मांग है कि हमें इन्साफ जल्दी से जल्दी मिलना चाहिए। अगर जल्दी सरकार की तरफ से ऐसा कोई फैसला नहीं आया तो हम मजबूरन अपनी इस मुहीम को और बढ़ा देंगे।

और जगह-जगह मुस्लिम महिलाओं का मिशन तलाक का गु्रप जिसको डाॅ0 समीना लगभग दो सालां से चला रही हैं। मुस्लिम पर्सनल लाॅ बोर्ड को पुतला फूंकना शुरू करेंगे। क्योंकि अब हम मुस्लिम औरतें ज्यादा सफर नहीं कर सकती और न ही रोज टी0वी0 चैनलों पर बैठक कर नेताओं और मौलानों पर बहस कर सकती हैं। और न हमें किसी और की बहस ही सुननी है और न ही इसमें कोई सियासत चाहती हैं। आज सभा में अम्बर जैदी, नाजिया परवीन, नजमा अन्सारी, सबिया अन्सारी, नजमा खान, नाजिम बेगम, जहां आरा, रेशमा परवीन, शमा, बिलकीस, जुबैदा खातून, फरजाना, फरा इरम, नूरजहां, खुशनुमा, शहाना, साजिदा, यासमीन, इमराना, तब्सुम, रूखसाना, रहनुमा, मोहसिना, शमीमा, राबिया, जैनब, नर्गिस, नर्गिस बेगम आदि शािमल हुईं।