वो मेरा होकर भी मुझसे बेखबर रहा

Wo mera hokar bhi mujhse - Hindi shayari
Wo mera hokar bhi mujhse – Hindi shayari

Wo mera hokar bhi mujhse – Hindi shayari

मंजिल कब थी..बस गर्दे सफर रहा
वो मेरा होकर भी..मुझसे बेखबर रहा

खुली आँखों में…सवाल तैरते तमाम
रात रातभर जागती रही,ये मरहला रहा।

बेवफाईयों के सिलसिले कुछ इस कदर
परछाइयों पर भी ना मेरा, ऐतवार रहा।

चेहरों पर नकाब देखकर,,आईना हैरान
असल अक्स तलाशता, परेशान रहा।

कत्ल का इल्जाम रकिबों पर,लगा झूठा
कातिल अपनों में कोई, खंजर गवाह रहा।


हमारे सारी न्यूजे देखने के लिए नीचे यूट्यूब बटन पर क्लिक करें

जरा यह भी पढ़े
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.