मीडिया प्रमाणन एवं अनुवीक्षण सेल स्थापित

Media Certification & Monitoring Cell
Media Certification & Monitoring Cell

देहरादून। Media Certification & Monitoring Cell लोकसभा चुनाव को विभिन्न व्यवस्थाओं को अमलीजामा पहनाने के लिए जिला प्रशासन की ओर से व्यापक गतिविधियां चलाई जा रही है। इस परिपेक्ष्य में चुनाव में प्रतिभाग करने वाले उम्मीदवारों को अपने प्रचार-प्रसार के संसाधनों की अनुमति प्राप्त करने हेतु विकासभवन प्रथम तल में मीडिया प्रमाणन एवं अनुवीक्षण सेल स्थापित किया गया है। जिसके द्वारा प्रचार सामग्रियों की विषयवस्तु के लिए अनुमतियां जारी की जायेगी।

मीडिया प्रमाणन एवं अनुवीक्षण समिति के नोडल अधिकारी सहायक महानिरीक्षक निबन्धन अरूण प्रताप सिह ने जानकारी देते हुए अवगत कराया कि लोकसभा सामान्य निर्वाचन 2019 के तहत् चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों को अपनी प्रचार सामग्री प्रकाशन हेतु एम.सी.एम.सी से अनुमति प्राप्त करनी होगी बिना अनुमति के प्रचार संसाधनों पर पैनी निगाह रखी जा रही है तथा किसी भी प्रकार के प्रचार सामग्री जो बिना अनुमति के प्रचारित होगी उसे सीज करने की कार्यवाही अमल में लाई जायेगी।

उन्होंने बताया कि निर्वाचन के दौरान अनेक प्रचार सामग्रियां यथा पम्पलैट, बैनर, फ्लैक्स, होर्डिंग्स, कटआउट, फ्लैग, अपील, मेनीफेस्टो, झण्डे, बैज, पट्टा के अलावा समाचार पत्रों में विज्ञापन की विषयवस्तु प्रमाणन के लिए अग्रिम अनुमतियां एम.सी.एम.सी द्वारा जारी की जा रही है।

एमसीएमसी कमेटी का गठन किया गया

अरूण प्रताप सिह ने चुनाव में प्रतिभाग करने वाले उम्मीदवारों, उनके अभिकर्ताओं को सूचित किया है कि वे अपने सभी प्रकार के प्रचार संसाधनों का प्रमाणीकरण एमसीएमसी से करवाये तथा सभी प्रचार सामग्री का डेमों प्रस्तुत कर अपने तथा प्रकाशित करने वाले प्रिन्टिंग प्रेस का आवेदन पत्र प्राप्त कर लें, ताकि किसी भी प्रकार आसावधानी से बचा जा सके।

उन्होंने बताया कि प्रचार सामग्री का प्रमाणीकरण करने हेतु एम.सी.एम.सी कमेटी का गठन किया गया है और प्रमाणीकरण के उपरान्त ही सभी प्रकार की प्रचार सामग्री प्रकाशित एवं प्रचारित की जायेगी। उन्होंने चुनाव में प्रतिभाग करने वाले उम्मीदवारों से अपील की है कि वे अपने प्रचार सामग्री का विवरण (डेमो) प्रस्तुत कर अनुमति प्राप्त कर लें।

एम.सी.एम.सी कार्यालय 24×7 घण्टे क्रियाशील है ताकि उम्मीदवारों को यथा समय अनुमतियां दी जा सकें। उन्होंने बताया कि प्रकाशित प्रचार सामग्री में प्रिन्टिंग प्रेस की प्रिंटलाइन एवं प्रतियों की संख्या का उल्लेख एवं प्रिन्टिंग प्रेस के प्रपत्र भरकर प्रस्तुत किया जाना नितान्त आवश्यक है।

जरा इसे भी पढ़ें
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.